अखरोट खाने के लाभ व विभिन्न रोगों में उपयोग Walnuts Benefits and Side Effects in Hindi

Walnuts Benefits and Side Effects in Hindi | Akhrot ke Fayde aur Nuksan |

 

 अखरोट का सामान्य परिचय –

हमारे भारत देश में हिमालय में कश्मीर से मणिपुर तक अखरोट (Walnut) के वृक्ष अधिकता से होते हैं। अखरोट के वृक्ष की ऊँचाई 60 से 90 फुट तक होती है। अखरोट के फूल सफ़ेद रंग के छोटे-छोटे गुच्छे के रूप लगते हैं और पत्ते 4 से 7 इंच तक लम्बे, अंडाकार, नुकीले और तीन, दो कँगूरे वाले होते हैं। इसके पत्ते संकोचक और पौष्टिक होते हैं तथा धातु-परिवर्तक और शरीर की क्रियाओं को ठीक करने वाले माने जाते हैं।

 फल- अखरोट के फल गोल और मैनफल के सामान होते हैं। फल के भीतर बादाम की तरह मींगी निकलती है। अखरोट दो प्रकार का होता है- एक को अखरोट दूसरे को रेखाफल कहते हैं। इसके पौधे की लकड़ी बहुत ही मजबूत, अच्छी और भूरे रंग की होती है।
छिलका एवं काढ़ा- इसका छिलका कृमिनाशक (Anthelmintic) और विरेचक है। इसका काढ़ा गलग्रंथियों (Thoracic) के लिए उपयोगी माना जाता है। गठिया की बिमारी में इसका फल धातु-परिवर्तक होता है। उपदंश (Syphilis), विसर्पिका (Hernia), खुजली (Itching), कण्ठमाला (Mumps) इत्यादि रोगों में यह लाभकारी माना जाता है।
गुण-दोष एवं उपयोग- आयुर्वेद के मतानुसार अखरोट मधुर, किंचित् खट्टा, स्त्रिग्ध, शीतल, वीर्यवर्धक, गरम, रुचिदायक, कफ-पित्तकारक, भारी, पिया, बलवर्धक तथा वातपित्त, क्षय, हृदयरोग, रक्तवात, रुधिरदोष को दूर करने वाला है।

 

  अखरोट मे पाए जाने वाले पोषक तत्व (Walnut nutrition)

अखरोट में ओमेगा-3 फॅटी एसिड्स प्रचुर मात्रा में होते हैं। ओमेगा -3 एक बहुत महत्वपूर्ण पोषक तत्व है, जो कई रोगों को रोक सकता है। ये मस्तिष्क कोशिकाओं में प्रवेश करने वाले महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और अपशिष्ट कोशिकाओं को बाहर निकालते हैं। अखरोट में सोडियम बहुत कम और कोलेस्ट्रॉल बिलकुल भी नहीं होता। इसके अतिरिक्त इनमें विटामिन A, B6, B12, C,  D, E और K भी अच्छी मात्रा में होते हैं| इनमे प्रोटीन, कैल्शियम, फाइबर, और खनिज जैसे लोहा, मैग्नीशियम, फास्फोरस, तांबे और मैंगनीज का एक श्रेष्ठ स्रोत है।  इनके अलावा बहुत सारे antioxidants, गैलिक एसिड और एलेगिक एसिड और अन्य आवश्यक पोषक तत्व भी पाये जाते हैं।

 

  अखरोट खाने के फायदे (Benefits of Eating Walnuts / Akhrot in Hindi) –

अखरोट खाने के अनेक फायदे हैं जिन्हें पढ़कर आप निश्चित ही अखरोट खाना शुरू कर देंगे और आपको ऐसा करना भी चाहिए। तो आइये जानते हैं उन फायदों के बारे में –

 

 

 दिमाग की शक्ति बढ़ाता है (Walnuts Benefits for Brain) –

अखरोट का आकार ना केवल हमारे मस्तिष्क अर्थात दिमाग से बहुत अधिक मिलता जुलता है, अपितु यह हमारे दिमाग को चुस्त दुरुस्त और तेज भी बनाता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने से Memory Sharp होती है। अगर आप स्टूडेंट हैं और अपनी याददाश्त को बढ़ाने के साथ-साथ दिमाग को तेज भी करना चाहते हैं तो आप समझिये कि अखरोट आपके लिए प्रकृति का वरदान है। इससे वृद्धावस्था में होने वाली दिमाग की कमजोरी भी दूर होती है।

दिमाग को तेज करने के साथ ही अखरोट आपको मानसिक रूप से भी स्वस्थ करता है। यह अवसाद को दूर करता है तथा मन को तनावमुक्त कर हल्का करता है।

 

 दिल की बीमारियों को रखता है दूर (Walnuts Benefits for Heart) –

अखरोट में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्‍सीडेंट होते हैं जो ह्रदय को पूर्णतः स्वस्थ रखते हैं। यदि आप अपने दिल को स्वस्थ रखना चाहते हैं और दिल की बीमारियों को खुद से दूर रखना चाहते हैं तो आपको अखरोट का सेवन अवश्य ही अखरोट खाने से आपकी बॉडी मे नुकसानदेह कोलेस्टरॉल (LDL) कम होता है और अच्छा कोलेस्टरॉल (HDL) बढ़ जाता है। जो आपके Heart health के लिए लाभदायक है। अखरोट में मौजूद ALA हमारे शरीर में खून का थक्का बनने से रोकते हैं और इससे Heart Attack से मृत्यु की सम्भावना लगभग 50% तक कम हो जाती है।

 

 वजन कंट्रोल (Weight Loss) करता है (Walnuts Benefits for Weight Loss) –

अखरोट में Fiber की अच्छी मात्रा होती है इस कारण यह वजन घटाने (Weight Loss) में आपकी सहायता करते हैं। यह आपकी भूख काम करके आपको अधिक खाने से रोकता है।

 

  मधुमेह को कंट्रोल करता है (Walnuts Benefits for Diabetes) –

अखरोट मधुमेह अर्थात Diabetes को Control करता है। इसके सेवन से रक्तवाहिकायें फैल जाती हैं और  metabolic syndrome कम हो जाता है जिससे Diabetes Control हो जाती है। नियमित रूप से इनका सेवन करने से टाइप 2 diabetes होने के chances कम हो जाते हैं।

 

 मर्दाना शक्ति (पौरुष) व शुक्राणुओं को बढ़ाता है (Walnuts Benefits for Sperm) –

आयुर्वेद में अखरोट को बहुत ही अच्छा कामोत्तेजक पदार्थ माना जाता है। यह वीर्य की गुणवत्ता में वृद्धि करता है तथा शुक्राणुओं की संख्या, गति व आयु बढ़ाता है। अखरोट  करने  वीर्य गाढ़ा होता है। यह नपुंसकता को दूर कर Sexual Life को बेहतर करने में सहायक होता है।

 

 Cancer से बचाता है (Walnuts Benefits for Cancer) –

एक रिसर्च के अनुसार अखरोट खाने से कई तरह के कैंसर से बचाव होता है, इसलिए कहा जा सकता है कि अखरोट (Walnut) एक बहुत ही अच्छा Anti-Cancer Food है। इसमें ऐसे antioxidants और phenolic compounds पाए जाते हैं जो पेट व Breast Cancer से बचाते हैं।

 त्वचा के लिए अखरोट (Skin care benefits of Walnuts) –

अखरोट में वे सभी गुण व पोषक तत्त्व विद्यमान होते हैं जो त्वचा को सुन्दर, चमकदार और जवान रखने के लिए आवश्यक होते हैं। इसी कारण अखरोट का उपयोग Skin Care Products में किया जाता है। इसमें पाए जाने वाले Vitamins आपकी त्वचा को wrinkles, बेजान त्वचा आदि से बचाते हैं। अखरोट के तेल से आप अपनी त्वचा का रूखापन दूर कर उसे कोमल बना सकते हैं। यह तेल आँखों के काले घेरे मिटाने में भी असरदार होता है। 

 

 बालों को फायदे  (Walnuts Benefits for hair) – 

Walnut Oil यानी अखरोट का तेल ना केवल बालों को मजबूत, स्वस्थ, चमकदार और सुन्दर बनाता है बल्कि यह गंजेपन की समस्या को भी दूर करने में सहायक होता है। इसमें मौजूद Omega 3, बायोटिन ( विटामिन B 7 )  व fatty acids बालों को लम्बे, घने और सुन्दर बनाते हैं। अखरोट के तेल में प्राकृतिक Anti Dandruff गुण भी होते हैं। 

 नींद लाए – अनिद्रा भगाए (Walnuts Benefits for Insomnia) –

जिन लोगों को नींद ना आने की समस्या है, उनकी इस अनिद्रा की समस्या का समाधान अखरोट है। अखरोट मे मेलेटोनिन हॉर्मोन होता है जो नींद लाने मे सहायता करता है। इसलिए यदि आप भी अनिद्रा से परेशान हैं तो आज से ही रात को कुछ अखरोट खाना शुरू कर दीजिये।

 

 हड्डियाँ मजबूत बनाता है (Walnuts Benefits for Bones) –

अखरोट के सेवन से हड्डियों को पर्याप्त मात्रा में Calcium मिल जाता है। यह शरीर से Calcium अवशोषित करके हड्डियों तक पहुंचाता है, इससे हड्डियाँ स्वस्थ और मजबूत रहती हैं।

 गर्भावस्था में अखरोट (Walnuts Benefits for Pragnancy) –

गर्भावस्था के दौरान अखरोट खाने से गर्भस्थ शिशु को किसी भी प्रकार की एलर्जी नहीं होती साथ ही उसे आवश्यक पोषक तत्त्व भी मिल जाते हैं।

 

 Uses of walnuts | अखरोट के कुछ घरेलु नुस्खे व रोगों का उपचार

  1. दांतों का दर्द – अखरोट की पत्तियां चबाने से दाँत दर्द दूर होता है।
  2. कण्ठमाला / गलसुआ (Mumps)- अखरोट के पत्तों का काथ पीने और उसी से गांठ को धोने से कण्ठमाला मिट जाती है।
  3. नासूर (Cancer)- इसकी मिली हुई गिरी को मोम और मीठे तेल के साथ गलाकर लेप करने से नासूर नष्ट हो जाता है।
  4. नारू (Guinea Worm)- इसकी खली को पीने के साथ पीसकर गरम करके सूजन पर लेपकर, पट्टी बाँधकर तपाने से सूजन उतर जाती है। 15 से 20 दिन तक करने से नारू गलकर नष्ट हो जाता है।
  5. कृमिरोग (Apoplexy)- इस वृक्ष की छाल का काथ पिलाने से आँतों के कीड़े मर जाते हैं।
  6. अर्दित / मुँह का लकवा (Facial Paralysis )- इसके तेल का मर्दन करके वादी मिटाने वाली औषधियों के काथ का बफारा लेने से इस रोग में बड़ा लाभ होता है।
  7. अनिद्रा (Insomnia) – एक अखरोट, 2 छोटी इलाइची और थोड़ा सा गुड मिलकर दिन मे दो बार खाने से अनिद्रा रोग या नींद की कमी (insomnia) दूर हो जाता है| इस नुस्खे से खर्राटे आना भी बंद हो जाते  हैं।
  8. शोथ /सूजन (Tumidity)- 1. पावभर गौमूत्र में 1 से 4 तोले तक अखरोट का तेल मिलाकर पान करने से शरीर की सूजन उतरती है, ऐसा शास्त्रकारों का मत है। 2. शरीर में दर्द, जलन, सूजन वाले स्थान पर अखरोट की छाल का लेप लगाने से लाभ होता है|
  9. याददाश्त कमजोर होना (Amnesia)–   रात को भिगो कर रखी 10 किशमिश 2 अखरोट के साथ खाने पर लाभ होता है।
  10. विरेचन (Purgation)- अखरोट की गिरी से जो तेल खींचा जाता है, वह एक औंस से 2 औंस तक देने से मृदु विरेचन ठीक होता है।
  11. सफेद दाग (vitiligo) – नियमित अखरोट खाने त्वचा से सफेद दाग (vitiligo)  दूर हो जाते हैं।
  12. शुक्राणु की कमी – नियमित रूप से रात को दूध के साथ कुछ अखरोट खाने से शुक्राणु की कमी दूर होती है।
  13. वृद्धावस्था की कमजोरी –  अखरोट, मुनक्का और बादाम की कुछ गिरी दूध के साथ पीने से वृद्धावस्था में होने वाली कमज़ोरी दूर हो जाती है। 

 अखरोट खाने के नुकसान | Side effects of Eating Walnuts in Hindi –

अखरोट खाने के लाभ बहुत हैं लेकिन नुकसान नहीं। लेकिन यदि आप इसे अधिक मात्रा में खाएंगे तब आपको जरूर कुछ Side Effects हो सकते हैं, और अति तो हर चीज की बुरी ही होती है। साइड इफेक्ट्स से बचने के लिए इसे ध्यान से पढ़ें –

  • कुछ लोगों को अखरोट से एलर्जी हो सकती है अतः उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए।क्योंकि ऐसा करने से side effects जैसे Skin rash, hives, गले मे जकड़न, पेट में दर्द,जी घबराना, होंठ या गले में सूजन, फेफड़ों की सूजन व सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। ऐसी स्थिति में चिकित्सक से सलाह लें। 
  • अखरोट का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर पर चकत्ते और सूजन हो सकती है।
  • अधिक मात्रा में सेवन करने से पाचन क्रिया धीमी पद सकती है।
  • कुछ लोगों में अखरोट खाने से वजन बढ़ सकता है|
  • अखरोट के पत्तों  को त्वचा पर लगाने से acne, स्किन एलर्जी , एक्जिमा और ulcers हो सकते हैं|
  • अधिक मात्रा में अखरोट का सेवन करने से दस्त, उल्टी, पेट मे दर्द हो सकता है|
  • खाँसी मे अखरोट का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि ये शरीर मे पानी की कमी पैदा करते हैं और बुखार मे दी जाने वाली दवा का असर भी घटा देते हैं|
  • यदि किसी के पथरी है तो उसे अखरोट कम ही खाने चाहिए।
  • काले अखरोट से स्किन rash और birth defects भी हो सकते हैं| इसलिए इन्हें प्रेग्नेन्सी और स्तनपान के समय कभी ना खायें|
  • अखरोट की तासीर गर्म होती है। इसलिए गर्मी के मौसम में तथा पित्त प्रकृति के लोगों के लिए यह नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए इसे सर्दी के मौसम में या कम मात्रा में ही खाना हितकर होता है।
  • यदि किसी में आयरन की कमी हो तो उसे अखरोट नहीं खाने चाहिए। क्योंकि अखरोट में पाया जाने वाला फाइटेट नामक तत्त्व भोजन से मिलने वाले आयरन को अवरुद्ध कर देता है इस कारण हमें आयरनयुक्त भोजन से भी आयरन नहीं मिल पाता।


ध्यान दें : अखरोट की गिरी पर जो पतला छिलका होता है उसमें 90% Antioxidants होते हैं। ये अखरोट का सबसे पौष्टिक भाग होता है। इसलिए ये छिलका कभी ना उतारें। साथ ही एक प्रश्न होता है किदिन मे कितने अखरोट खाने चाहिए? तो इसका जवाब है -दिन में 5 से अधिक अखरोट नहीं खाने चाहिए। इससे अधिक खाने से SIde Effects भी हो सकते हैं जैसा कि ऊपर बताया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!